वैष्णो देवी मंदिर के रास्ते में हुआ कुुछ ऐसा जिसे देखकर आपकी भी कांप जाएंगी रुंह

हिन्दुओं का सबसे पवित्र धार्मिक स्थल  माता वैष्णों  जम्मू कश्मीर स्थित शहर  कटरा में स्थित है. यहां पर हर साल लाखों करोड़ो लोग आते हैं, जो लोग यहां गये हैं उनको पता है कि यहां पर जाने के लिए कितने टेढ़े मेढे़ व कठिन रास्ते हैं , पहाड़ों पर चलना हर हर किसी के बसकी नहीं होता ह, नौजवान लोग तो भी इस चढाई को चढ जाते हैं लेकिन  बुजुर्ग लोगों को यह चढ़़ाई काफी कठिन लगती हैं.फिलहाल यह एक दिल दहला देने वाली तस्वीरें वायरल हो रही है, जिसे देखकर हर कोई सन्न रह जाएगा.

बता दें कि जो लोग इस यात्रा को पैदल तय नहीं कर पाते हैं तो उनके लिए यहां पर खच्चर, घोड़ों, हेलिकॉप्टर व पालकी की सुविधाएं मौजूूद है.लोग माता रानी के मंदिर तक जाने के लिए इन सभी वाहनों की मदद से वहां पर पहुंचते हैं, लेकिन सबसे ज्यादा जो लोग इस्तेमाल करते हैं वह खच्चर का होता है जो कि काफी ताददात में वहा पर लोगों को मंदिर तक ले जाते हैं.

जानकारी के लिए आपको बता दें कि एक शिवय राय नामक एक व्यक्ति ने फेसबुक पर पोस्ट करके इन बेजुबान खच्चरों की हालत के बारे में दिखाया है कि किस तरह से यहां पर उनके साथ में जुल्म हो रहा है. यह ये बेजुबान जानवर ज्यादा से ज्यादा वजन उठाकर इस मुश्किल रास्ते पर चलते हैं। उसने लिखा है कि वह अपनी के साथ वैष्णों देवी गया था वहां मैने देखा खच्चर वाले लगातार खच्चरों को पीट रहे थे और उन्हें सवारी बैठाने के लिए जबरदस्ती तैयार कर रहे थे।

खच्चरो ंको जबरदस्ती से बारी भार उठाने के  लिए मजबूर किया जा रहा है जिससे उनकी हालत नाजुक हो चुकी है. जानकर हैरानी होगी कि यहां पर 3 हजार खच्चर रजिस्टर्ड हैं, लेकिन गैरकानूनी सो 12 हजार खच्चरों का उपयोग हो रहा है.और यहां इनकी मदद के लिए कोई डॉक्टर भी मौजूद नहीं है.

मुझे सबसे ज्यादा दुख तब हुआ जब मैंने देखा कि एक लड़का अपने खच्चर को जबरदस्ती उठा रहा है, लेकिन खच्चर का एक पैर टूटा हुआ था। जब मुझसे सहन नहीं हुआ तो मैं उस लड़के पर भड़क गया। तब वो लड़का खच्चर को उसी हाल में छोड़कर आगे बढ़ गया।” फिर मैने उस घायल खच्च्र के लिए  श्री माता वैष्णों देवी श्राइन बोर्ड के इमरजेंसी नंबर पर क़ॉल किया फिर तीसरी बार किसी ने मेरा फोन उठाया लेकिन फिर भी 2.30 बजे तक कोई मेरी मदद के लिए आगे नहीं आया . तो मैं एक गार्ड के साथ नीचे जाकर जानवरों के डॉक्टर और बोर्ड के ऑफिसर्स से मिलने का फैसला किया।”

शिवय राय ने इस पूरी पोस्ट को फेसबुक पर लिखकर लोगों को बताया और कहा कि मैं लोगों से अपील करते हुए लिखा है कि- “कृपया इस मैसेज को देखने के बाद आप इन खच्चरों पर ना बैठे और जानवरों पर होने वाले ऐसे उत्पीड़न के खिलाफ आवाज उठाएं”

Leave a Reply

Your email address will not be published.