Breaking News
Home / Uncategorized / जल्द ही BAJAJ लॉन्च कर रहा है ये ‘छोटू’ वाहन, कीमत भी इतनी सस्ती है कि अब हर आम आदमी का गाड़ी खरीदने का सपना होगा पूरा

जल्द ही BAJAJ लॉन्च कर रहा है ये ‘छोटू’ वाहन, कीमत भी इतनी सस्ती है कि अब हर आम आदमी का गाड़ी खरीदने का सपना होगा पूरा

बजाज ने साल 2012 में छोटी सी दिखने वाली गाड़ी Bajaj Qute ऑटो एक्सपो में RE60 कोडनेम के तहत पेश की थी. भारत में तिपहिया रिक्शों का मजबूत विकल्प बन सकता है बजाज का यह ‘छोटू’ वाहन. भारत सरकार ने भी Bajaj Qute को सड़क पर चलने की अनुमति दे दी है. जल्दी ही भारत की सड़कों पर दौड़ती नज़र आयेगी बजाज की ‘क्यूट’. Bajaj का ये छोटू वाहन एक क्वॉड्रिसाइकिल है. Bajaj Qute की कीमत इतनी कम है कि अब गाड़ी खरीदने का सपना देखने वाला हर आम आदमी इसे खरीद सकता है. दिखने में भले ही छोटी सी है Bajaj Qute लेकिन इसके फीचर्स बहुत शानदार है.

टाटा नैनो को टक्कर देगी बजाज की ‘क्यूट’ (Image Source : navbharattimes)

मेड इन इंडिया Bajaj Qute क्वॉड्रिसाइकिल को इंटरनेशनल बाजारों में एक्सपोर्ट किया जा रहा था और अमेरिका में इसे 2,000 डॉलर में बेचा जा रहा है. भारत में भी ये छोटी सी दिखने वाली गाड़ी ऑटो रिक्शा के तौर पर तेजी से उभर सकती है

क्या है क्वॉड्रिसाइकिल?

क्वॉड्रिसाइिकल 4 पहिये वाली एक छोटी कार होती है जिसकी पॉवर, स्पीड और वजन सीमित होता है. दूसरे शब्दों में कहें तो ये ऑटोरिक्शा का 4 पहियों वाला वर्जन होता है, जिसमें 4 लोगों के बैठने की सीट होती है.

Bajaj Qute के फीचर्स…

  • 216 सीसी इंजन
  • सिंगल सिलिंडर
  • वाटर कूल्ड पेट्रोल इंजन
  • इंजन 4 स्पीड गियरबॉक्स से लैस
  • वज़न महज 400 किलोग्राम
  • 44 लीटर की बूट स्पेस कैपेसिटी
Bajaj Qute  में 2+2 या 1+3 का कॉन्फ़िगरेशन दिया जा सकता है (Image Source : newshunt)

इतनी होगी इसकी कीमत…

बजाज ने दावा किया है कि Qute करीब 70 km प्रति घंटे की स्पीड से दौड़ सकती है और 35 km/litre की माइलेज दे सकती हैं. इस गाड़ी में 4 लोगों के बैठने की व्यवस्था है. Bajaj Qute की लम्बाई 2.75 और  1.3m चौड़ाई होगी. इसको बनाने के लिए स्टील और प्लास्टिक मटीरियल्स का इस्तेमाल किया गया है. आने वाले समय में बजाज इसका सीएनजी वेरिएंट भी मार्केट में पेश करेगी. ‘बजाय क्यूट’ टाटा की नैनो कार से भी छोटी है.  Bajaj Qute की कीमत 1.5 से 2 लाख के बीच होगी.

NEWS SOURCE : navbharattimes