Breaking News
Home / Breaking News / बड़ी खबर: किसी भी वक्त बंद हो सकते हैं भारत के 4 बड़े बैंक,? कहीं आपका भी खाता तो इनमें नहीं

बड़ी खबर: किसी भी वक्त बंद हो सकते हैं भारत के 4 बड़े बैंक,? कहीं आपका भी खाता तो इनमें नहीं

केंद्र में जबसे बीजेपी की सरकार आई है तब से लेकर अब तक देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने देश में फैले भ्रष्टाचार और गड़बड़ी को लेकर कई बड़े कदम उठाये थे. मोदी सरकार ने देशभर में नोटबंदी लागू कर लोगों के होश उड़ा दिए थे. अब पीएम मोदी बैंकों की सेहत सुधारने को लेकर एक ऐसा कदम उठाने जा रहे हैं जिसे जानने के बाद आपकी नींद उड़ जायेगी. जी हाँ मोदी सरकार बहुत जल्द एक बड़ा कदम उठाने जा रही है जो आपके होश उड़ा सकता है. पूरी खबर पढने के बाद आप भी हैरान रह जायेंगे !

देश के 14 वें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी Image Source

कहीं आपका भी खाता इन बैंको में तो नहीं 

जानकारी के लिए बता दें मोदी सरकार एक मेगा मर्जर के प्लान पर काम कर रही है. जिसके अंतर्गत सरकार देश की 4 बड़ी बैंको को लेकर बड़ा फैसला ले सकती है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार ओरियंटल बैंक ऑफ कॉमर्स (OBC), सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ बड़ौदा (BoB) और IDBI को बंद कर सकती है. अगर आपका भी खाता इन बैंकों में है तो घबराने की कोई बात नहीं है. मोदी सरकार इन 4 बैंको को खत्म करके एक बड़ा बैंक बनाने की तैयारी कर रही है. तो घबराने की कोई बात नहीं है आपका पैसा सुरक्षित है. कभी भी ये बैंक बंद हो सकते हैं? सरकार इस योजना पर विचार कर रही है.

देश की प्रमुख बैंक Image Source

सरकार के इस कदम के पीछे की वजह 

इस कदम को उठाने के पीछे की सरकार की वजह ये है कि वित्तीय वर्ष 2018 में इन चारों बैंकों को मिलाकर 21646 हजार करोड़ रूपये का घाटा हुआ है. जिसके चलते सरकार इन चारों बैंको को मर्ज करके एक बैंक बनाना चाह रही है. अगर ऐसा होता है तो SBI के बाद यह बैंक देश का दूसरा बड़ा बैंक बन जायेगा. वित्त मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार ऐसी कठिन स्थिति में बैंको की हालत सुधरने में आसानी मिलेगी और साथ ही कमजोर बैंकों की वित्तीय हालत में काफी हद तक सुधार देखने को मिल सकता है.

भाषण के दौरान पीएम मोदी Image Source

गौरतलब है कि सरकार के इस कदम से इन बैंकों की वित्तीय हालत में तो सुधार आएगा ही साथ ही में इन बैंकों की जो खस्ता हालत हो रही है उसमें भी सुधार आएगा. वहीँ बताया जा रहा है कि इस कदम के बाद कमजोर बैंकों को अपनी एसेट बेचने में सहायता मिलेगी. इसी के साथ बैंको के इंफ्रास्ट्रक्चर पर काम किया जायेगा और कर्मचारियों की छटनी में आसानी भी मिलेगी.

News Source